CTET Exam How to prepare for the Pedagogy section in Hindi

Pick Your Language


CTET (केंद्रीय शिक्षक योग्यता परीक्षा) परीक्षा को पूरे देश में शिक्षण मानकों को सुधारने के लिए भारत सरकार द्वारा आयोजित किया जाता हैं. यह परीक्षा नेशनल करिकुलम नेटवर्क फ्रेमवर्क पर आधारित हैं इस फ्रेमवर्क को NCTE (नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन) में परिवर्तनों व बदलावों पर विचार करने के लिए बनाया गया था. उम्मीदवार जिनके पास B.T.C. (D.El.Ed), B.Ed., और B.El.Ed. की प्रोफेशनल योग्यता हैं, इस परीक्षा को देने के योग्य हैं. CTET परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए, उम्मीदवार को कम से कम 60% अंक प्राप्त करना आवश्यक हैं.

CTET पेपर-I और पेपर-II में निम्नलिखित 5 विषय सम्मिलित हैं. अधिकतर विषय दोनों पेपर्स में समान हैं. ये विषय इस प्रकार हैं-

  • बाल विकास व शिक्षा शास्त्र
  • भाषा-I
  • भाषा-II
  • गणित
  • पर्यावरण अध्ययन (पेपर-II में इसके स्थान पर, सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान विषय से प्रश्नों को पूछा जाता हैं)

CTET परीक्षा में, ‘बाल विकास व शिक्षाशास्त्र’ एक अलग अनुभाग हैं. परन्तु बाल विकास का सिलेबस शिक्षाशास्त्र के सिलेबस से अलग होता हैं. शिक्षाशास्त्र विषय में निम्नलिखित टॉपिक्स होते हैं-

  • How children think and learn; how and why children ‘fail’ to achieve success in school performance.
  • Basic processes of teaching and learning; children’s strategies of learning; learning as a social activity; social context of learning.
  • Child as a problem solver and a ‘scientific investigator’
  • Alternative conceptions of learning in children, understanding children’s ‘errors’ as significant steps in the learning process.
  • Cognition & Emotions
  • Motivation and learning
  • Factors contributing to learning – personal & environmental

इस लेख में, हम CTET परीक्षा में अधिक अंक प्राप्त करने हेतु शिक्षाशास्त्र अनुभाग की तैयारी की विभिन्न टिप्स के बारे में विस्तार से जानेंगे. आइये- इन टिप्स को निम्नलिखित लेख के माध्यम से जानते हैं-

CTET परीक्षा हेतु तैयारी की टिप्स: शिक्षाशास्त्र

शिक्षाशास्त्र की तैयारी करना बहुत आसान और व्यावहारिक हैं. शिक्षाशास्त्र बच्चों के विकास पर फोकस करता हैं (यानि बच्चे चीज़ों को कैसे सीखते हैं). निम्नलिखित टिप्स का अनुसरण करके, आप परीक्षा के इस अनुभाग को आसानी से हल कर सकते हैं-  

बाल लक्षण (Child characteristics)

शिक्षाशास्त्र के तहत आपको बालकों के लक्षणों को समझना होता हैं. बहुत अधिक पुस्तकें पढ़ने से, आपको शिक्षाशास्त्र के प्रश्नों को सही तरह से हल करने में कोई मदद नहीं मिल पायेगी. इसके लिए, आपको सबसे पहले स्वयं को बच्चों की जगह रखकर निम्नलिखित बातों का विश्लेषण करना चाहिए-

–          बच्चों में सीखने और समझने की क्या प्रक्रिया हैं?

–          बच्चों की शिक्षा में क्या रूकावटें होती हैं?

–          बच्चों को किस बात से प्रोत्साहन और हताशा होती हैं?

–          बच्चों के व्यक्तिगत विकास में कौन कौन-से कारक महत्वपूर्ण हैं? और इसी प्रकार के अन्य प्रश्न.

इस प्रकार के प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करने के लिए, आपको गैप एनालिसिस और 5 W’s (what, why, when, where, और who) व 1 H (How) एनालिसिस को करना चाहिए. खुद के प्रयासों और अंतर्ज्ञान के जरिये इन प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करने से, आपमें आत्मविश्वास पैदा होगा. इस प्रकार के विश्लेषण से, आप CTET परीक्षा में अधिकाँश प्रश्नों का उत्तर बड़ी आसानी से दे सकते हैं. अत: शिक्षाशास्त्र अनुभाग की तैयारी करते समय, बच्चों से सम्बंधित बातों को समझना बहुत ही महत्वपूर्ण और अनिवार्य होता हैं.  

शैक्षिक दृष्टिकोण और विचार (Pedagogical Approaches & Considerations)

CTET परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए, आपको विभिन्न शैक्षिक दृष्टिकोणों और विचारों, जिनका उपयोग बच्चों को प्रभावी रूप से पढ़ाने में किया जाता हैं, की समझ होना बहुत आवश्यक हैं. ये दृष्टिकोण और विचार बच्चों के प्रोत्साहन, उनके ध्यान और शिक्षा में रूकावटों के निवारण पर फोकस करते हैं. अधिकांशत: प्रयोग होने वाले दृष्टिकोणों और विचारों मे से कुछ निम्न प्रकार हैं-

शैक्षिक दृष्टिकोण (Pedagogical Approaches)

शैक्षिक विचार (Pedagogical Considerations)

Student-centered learning

Learning space

Dialogic learning

Learning theories

Critical pedagogy

Learning mode (Distance, online, etc.)

अत: आपको ऊपर बताये गए टॉपिक्स का विस्तृत ज्ञान होना बहुत जरूरी हैं क्योंकि इन अनुभाग के सभी प्रश्नों को इन्हीं शैक्षिक दृष्टिकोणों और विचारों पर बनाया जाता हैं.

CTET परीक्षा के चाइल्ड डेवलपमेंट अनुभाग की तैयारी कैसे करें?

रिसर्च पेपर्स को पढ़ें

एक शिक्षक या एक CTET उम्मीदवार के रूप में, आपको शिक्षाशास्त्र व सम्बंधित विषयों पर विभिन्न रिसर्च पेपर्स को पढ़ने की आदत को विकसित करना चाहिए. ये पेपर्स CTET परीक्षा और भविष्य के शिक्षण कार्यों में निश्चित ही बहुत उपयोगी साबित होंगे. इस अनुभाग के रिसर्च पेपर्स प्रभावी शिक्षण पद्धतियों पर फोकस होते हैं. कुछ वेबसाइटो के नाम निम्न हैं जहाँ से आप शिक्षाशास्त्र पर प्रासंगिक रिसर्च पेपर्स को प्राप्त कर सकते हैं-

–          ijopr.com

–          acrl.ala.org

–          academia.edu

–          eric.ed.gov

पुस्तकें  

इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने हेतु, हम आपको CTET परीक्षा के लिए बनायीं गयी प्रासंगिक पुस्तकों को ही रेफ़र करने की सलाह देते हैं. अत: आपको केवल उन्हीं पुस्तकों का चयन करना चाहिए जिसमें CTET परीक्षा के सिलेबस पर आधारित सटीक अध्ययन सामग्री को दिया गया हो. CTET की तैयारी में पुस्तकों की एक महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं क्योंकि यादृच्छिक पुस्तकों या अन्य किसी भी अध्ययन सामग्री से तैयारी करने से CTET परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त करने में कोई मदद नहीं मिलती हैं.

यदि आपने सही ढंग से अभ्यास व तैयारी की हैं और आपको विश्वास हैं कि आप CTET परीक्षा में सफल हो जायेंगे, इस स्थिति में आपको विस्तृत जानकारी और अधिक क्लैरिटी के लिए स्टैण्डर्ड लेखक की पुस्तकों को भी पढ़ना चाहिए. CTET शिक्षाशास्त्र अनुभाग की तैयारी हेतु कुछ पुस्तकों को नीचे बताया गया हैं-

  • Child Development & Pedagogy for CTET & STET (Paper 1 & 2) 2nd Editionदिशा पब्लिकेशनस
  • Teaching Aptitude & Teaching Attitude: For All Teachers Recruitment Examinations– RPH Editorial Board
  • A Complete Resource for CTET: Child Development and Pedagogy- Pearson Publication

पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्र

आपको कम से कम पिछले 5 वर्षों के प्रश्न-पत्रों को हल अवश्य करना चाहिए. पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्र CTET परीक्षा की सूक्ष्म जानकारियों यानि प्रश्नों का कठिनाई स्तर, प्रश्नों के प्रकार और परीक्षा में उनकी संख्या को समझने में बहुत सहायक होते हैं. इन प्रश्न-पत्रों के प्रयास से आप परीक्षा से पहले अपने अर्जित ज्ञान में गैप का विश्लेषण भी कर सकते हैं. यह अवलोकन इस गैप को खत्म करने में आवश्यक प्रयासों के निर्धारण और परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने में भी आपकी मदद करेगा. पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्र रिविजन प्लान को तैयार करने में भी आपकी सहायता करते हैं जिससे आपको कॉन्सेप्ट्स को अच्छी तरह से समझने और याद करने में बहुत सहायता मिलती हैं. अत: पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्रों की महत्वता को कम न आंकें. आप पिछले वर्षों के इन प्रश्न-पत्रों को विभिन्न ऑनलाइन और ऑफलाइन स्त्रोतों पर प्राप्त कर सकते हैं. इनमे से कुछ निम्न प्रकार हैं-  

  • CTET & TETs Previous Year’ Solved Papers class I-V Paper-I- अरिहंत पब्लिकेशनस
  • CTET & TETs Previous Year’ Solved papers Mathematics & Science Class VI-VIII- अरिहंत पब्लिकेशनस

इन स्त्रोतों के अलावा, आप पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्रों को निम्न लिंक से भी प्राप्त कर सकते हैं-

CTET & TETs Previous Year’ Solved papers Mathematics & Science Class VI-VIII

ऑनलाइन टेस्ट सीरीज

CTET परीक्षा की तैयारी के अंतिम दौर में आपको ऑनलाइन टेस्ट सीरीज का अभ्यास अवश्य करना चाहिए. ऐसे कई ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स हैं जहाँ आपको नि:शुल्क और शुल्क सहित क्विज़ेज मिल जायेंगी. ऑनलाइन टेस्ट सीरीज से आपको आपकी प्रश्नों को हल करने की गति और कॉन्सेप्ट्स पर पकड़ से सम्बंधित जानकारी के बारे में भी पता चलता हैं. इन लाभों को आप केवल किसी भी क्विज़ेज का उपयोग करके देख सकते हैं. अत: इस चरण को गंभीरता से लेने की सलाह दी जाती हैं. आप विभिन्न वेबसाइटो से सस्ती दरों पर उपलब्ध ऑनलाइन क्विज़ेज का अभ्यास कर सकते हैं. इनमे से कुछ प्रासंगिक और उपयोगी क्विज़ेज निम्नलिखित हैं-

यदि आपको “CTET परीक्षा के शिक्षाशास्त्र अनुभाग की तैयारी कैसे करें?” पर बताई गयी उपरोक्त जानकारी उपयोगी लगी हो तो इस प्रकार की अधिक जानकारियों के लिए हमारे CTET वेबपेज पर आते रहे.





Source link

Get the best stories straight into your inbox!

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner